डर

क्यों डर डर के जी रहे है इतना हम,
ज़िन्दगी होती जा रही है ख़तम|
जीवन में डर इतना है भर चूका,
जैसे बारिश में आ पड़ा हो सूखा|

Continue reading “डर”